About: Lokmanya Bal Gangadhar Tilak

About: Lokmanya Bal Gangadhar Tilak

About: Lokmanya Bal Gangadhar Tilak – This photo was taken at Lokmanya Tilak Museum in Pune (Maharashtra).

लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक का जन्म 23 जुलाई 1856 को रत्नागिरी में हुआ था। हालाँकि उनका पहला नाम केशव था लेकिन उनकी माँ उन्हें बाल कहकर बुलाती थीं। इसलिए तिलक ने वही नाम इस्तेमाल करना जारी रखा। बचपन से ही तिलक में समझने और दोहराने की असाधारण शक्ति थी। वर्ष 1861 में दशहरे के शुभ दिन पर उनका नाम विद्यालय में पंजीकृत किया गया। उनके पिता को 1866 में सहायक उप शैक्षिक निरीक्षक के रूप में पुणे स्थानांतरित कर दिया गया था। इसके बाद तिलक की शिक्षा पुणे में जारी रही। स्कूली शिक्षा के दौरान तिलक ने संस्कृत में कविताएँ लिखीं। उनका विवाह वर्ष 1872 में लाडघर के बल्लालपंत बल की बेटी तापीबाई से हुआ था। विवाह के बाद उनका नाम बदलकर सत्यभामाबाई कर दिया गया। उसी वर्ष तिलक के पिता का निधन हो गया। उनकी मां की पहले ही मौत हो चुकी थी. मैट्रिक परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद तिलक ने वर्ष 1873 में डेक्कन कॉलेज, पुणे में प्रवेश लिया जहाँ उन्हें छात्रवृत्ति प्राप्त हुई। उन्होंने सफलतापूर्वक बी.ए. उत्तीर्ण किया प्रथम श्रेणी में मुख्य विषय के रूप में गणित । उन्होंने वर्ष 1879 में एलएलबी किया। कॉलेज में रहते हुए तिलक और उनके मित्र गोपालराव अगरकर सादिलबाबा पहाड़ी पर जाते थे और भविष्य की योजनाओं पर चर्चा करते थे। चिपलूनकर के नेतृत्व में इस तिकड़ी ने 1 जनवरी 1880 को द न्यू इंग्लिश स्कूल की शुरुआत की। स्कूल का मुख्य उद्देश्य छात्रों को राष्ट्रीय शिक्षा प्रदान करना था। कुछ ही देर में विद्यालय में विद्यार्थियों की उपस्थिति बढ़ गयी। शिक्षित लोगों को समसामयिक घटनाओं से परिचित कराने के उद्देश्य से न्यू इंग्लिश स्कूल के संस्थापकों ने दो समाचार पत्र शुरू करने का निर्णय लिया। अंग्रेजी में महरत्ता अखबार 2 जनवरी 1881 को शुरू हुआ था और मराठी में केसरी, 4 जनवरी 1881 को प्रकाशित हुआ था। तिलक महरत्ता के पहले संपादक थे और अगरकर केसरी के पहले संपादक थे!

(English to Hindi Translation by Google Translate)

Leave a Comment

5 + three =