About: Pilar – Dates back to 1613

About: Pilar – Dates back to 1613

पिलर में आपका स्वागत है

आप एक पहाड़ी की चोटी पर खड़े हैं जो इतिहास से ओत-प्रोत है और आध्यात्मिकता से ओत-प्रोत है। इस क्षेत्र का इतिहास बहुत प्रारंभिक काल से जाता है, जब नीचे नदी के किनारे गोपकपट्टन का बंदरगाह था, जिसका रोम और मध्य पूर्व (2 ईसा पूर्व) के साथ व्यापारिक संबंध था। बाद में यह क्षेत्र कदंबों की राजधानी बन गया – गोवपुरी। इस पहाड़ी के आसपास की जगह पर हिंदू मंदिर और बौद्ध गुफाएं थीं। गोवा पर मुस्लिम शासन के युग के निशान भी देखे जाते हैं। पिलर आज जो है उसकी नींव 1613 से पहले की है, जिस मठ के सामने आप हैं। तब से यह आध्यात्मिक अनुभवों का केंद्र, इतिहास के विद्वानों के लिए खजाना और सभी प्रकृति प्रेमियों के लिए देखने लायक दृश्य बन गया है। यह पहाड़ी संत फादर एग्नेलो (मृत्यु 1929) के नश्वर अवशेषों के आसपास आध्यात्मिक नवीनीकरण और आध्यात्मिक विश्राम का स्थान है। आप हमारे प्रिय अतिथि हैं, सुस्वागतम, बेमविंसलेट पिबिएनवेनु, विलकोमेन, वन्नाकम, बेनवेन्यूटो, मोगाचो इयूकर

(English to Hindi Translation by Google Translate)

Click to learn more about Pilar Society.

Leave a Comment

− 6 = one