About: Shri Saibaba and Wamandada Gondkar

About: Shri Saibaba and Wamandada Gondkar

Wamandada Gondkar was one of his contemporary disciples who received the affection of Saibaba. Wamandada’s house was one of the five homes where Sai used to ask for Bhiksha (food) every day. Baba and Wamandada created ‘Lendibagh’ in the place of Muralidharrao Gondkar; for this, Wamandada would provide two clay pots to Baba every day. After watering the trees, Baba used to break both the clay pots.

श्री साईबाबा और वामनदादा गोंडकर

वामनदादा गोंदकर उनके समकालीन शिष्यों में से एक थे जिन्हें साईंबाबा का स्नेह प्राप्त था। वामनदादा का घर उन पाँच घरों में से एक था जहाँ साईं प्रतिदिन भिक्षा (भोजन) माँगते थे। मुरलीधरराव गोंदकर के स्थान पर बाबा और वामनदादा ने ‘लेंडीबाग’ का निर्माण किया; इसके लिए वामनदादा प्रतिदिन बाबा को दो मिट्टी के घड़े प्रदान करते थे। बाबा पेड़ों को सींचने के बाद मिट्टी के दोनों घड़ों को तोड़ देते थे।

(English to Hindi Translation by Google Translate)

Leave a Comment

90 − eighty five =