History of Gurdwara Sri Paonta Sahib – A Sanctified Shrine

History of Gurdwara Sri Paonta Sahib – A Sanctified Shrine

गुरुद्वारा श्री पौंटा साहिब का इतिहास

यह यमुना के तट पर स्थित एक पवित्र तीर्थस्थल है जहाँ कलगीधर गुरु गोबिंद सिंह ने नाहन राज्य से लौटने के बाद एक नए शहर की स्थापना के लिए एक स्थान चुना था। गुरु ने अपने प्रवास के लिए अपना पहला शिविर यहीं (14 अप्रैल वर्ष 1685) लगाया था। इसके बाद उन्होंने इस प्राकृतिक और मनोरम स्थल के बीच एक किले जैसी मजबूत इमारत का निर्माण करवाया। यहीं पर उन्होंने पांवटा साहिब की नींव रखी और इसे यह नाम दिया। गुरु ने अपने निवास के सामने दीवान रखने के लिए एक भवन की व्यवस्था की जहाँ प्रतिदिन आसा-दी-वार का पाठ और कीर्तन होता था। कथा और परिचर्चा के माध्यम से गुरु की विचारधारा पर भी चर्चा की गई। गुरु ने स्वयं 4.5 वर्ष की अवधि तक संगत को आध्यात्मिक ज्ञान प्रदान किया। इस स्थान को गुरुद्वारा हरमंदिर साहिब के नाम से जाना जाने लगा। यहीं पर गुरु गोबिंद सिंह के हथियार और उनके अन्य सामान सुरक्षित थे जो बाद में गायब हो गए लेकिन उनमें से कुछ अभी भी वहां मौजूद हैं। यह साहिब बाबा अजीत सिंह की जन्मस्थली है और यहां होला-मोहला त्योहार बड़ी खुशी से मनाया जाता है।

कवि दरबार आस्थान

कवि दरबार अस्थान नामक यह स्थान गुरुद्वारा हरमंदिर साहिब के ठीक पीछे यमुना नदी के तट पर एक खड़ी पहाड़ी के पास स्थित है और विपरीत पहाड़ी से काफी दिखाई देता है। यह स्थान गुरु गोबिंद सिंह के बावन दरबारी कवियों के साथ उनके काव्य दरबार को अमर बनाता है। यह एक खड़ी पहाड़ी पर एक विस्तृत मैदान है जहाँ गुरु गोबिंद सिंह ने स्वयं गुरबानी की रचना की थी। उनकी रचनाएँ अर्थात् जाप साहिब, सवैय्य पातशाही दसवीं और चंडी-दी-वार की रचना इसी स्थान पर की गई थी। गुरु ने यहां पुराने साहित्य और अन्य साहित्यिक रचनाओं का सरल भाषा में अनुवाद भी करवाया।

Leave a Comment

four + 3 =