About: Sujata Garh (Bakraur Village) – The Residence

About: Sujata Garh (Bakraur Village) – The Residence

इस ईंट स्तूप का निर्माण भगवान बुद्ध को दूध चावल चढ़ाने वाली युवती सुजाता के निवास की स्मृति में किया गया था। इसे उत्खनन के माध्यम से स्थापित किया गया है, जिसमें 8वीं9वीं शताब्दी ईस्वी का एक शिलालेख प्राप्त हुआ है, जिसे ‘देवपाल राजस्य सुजाता गृह’ के रूप में पढ़ा जाता है, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण 1973-74 और फिर 2001-06 में उत्खनन से यह बात सामने आई है की अयाकस के साथ दोहरी सीढ़ीदार गोलाकार स्तूप कार्डिनल दिशाओं में । इसका निर्माण गुप्त काल से लेकर पाल काल तक तीन चरणों में किया गया था। प्रदक्षिणापथ के चारों ओर जमीनी स्तर पर एक लकड़ी की रेलिंग थी। पूरी संरचना मूल रूप से चूने से ली गई थी। खुदाई के दौरान खोदे गए कुछ पुरावशेषों को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा बनाए गए बोधगया संग्रहालय में प्रदर्शित किया गया है।

(English to Hindi Translation by Google Translate)

Leave a Comment

+ forty one = 42